e-RUPI क्या है कैसे एक डिजिटल पेमेंट देश में क्रांति ला सकता है

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एक देश में डिजिटल करेंसी की शुरुवात की है, ई-आरयूपीआई (e-RUPI) डिजिटल भुगतान के लिए एक कैशलेस और संपर्क रहित साधन है। यह एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर है, जो लाभार्थियों के मोबाइल पर पहुंचाया जाता है।

इस नए पेमेंट सेवा के उपयोगकर्ता सेवा पर कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के बिना वाउचर के माध्यम से पेमेंट होंगे।

ई-आरयूपीआई क्या है? What is e-RUPI?

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) ने वित्तीय सेवा विभाग (डीएफएस), राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (एनएचए), स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (एमओएचएफडब्ल्यू) और सहयोगी बैंकों के सहयोग से एक अभिनव डिजिटल समाधान शुरू किया है – ‘ई- रुपी’।

इस निर्बाध एकमुश्त भुगतान तंत्र के उपयोगकर्ता ई-आरयूपीआई स्वीकार करने वाले व्यापारियों पर कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के बिना वाउचर को भुनाने में सक्षम होंगे। ई-आरयूपीआई को लाभार्थियों के साथ एक विशिष्ट उद्देश्य या गतिविधि के लिए संगठनों या सरकार द्वारा एसएमएस या क्यूआर कोड के माध्यम से साझा किया जाएगा।

यह संपर्क रहित ई-आरयूपीआई आसान, सुरक्षित और सुरक्षित है क्योंकि यह लाभार्थियों के विवरण को पूरी तरह से गोपनीय रखता है। इस वाउचर के माध्यम से पूरी लेनदेन प्रक्रिया अपेक्षाकृत तेज और साथ ही विश्वसनीय है, क्योंकि वाउचर में आवश्यक राशि पहले से ही संग्रहीत है।

पीएमओ ने हाल ही में एक बयान में कहा कि ई-आरयूपीआई का उपयोग आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जैसी योजनाओं के तहत मातृ एवं बाल कल्याण योजनाओं, टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों, दवाओं और निदान के तहत दवाएं और पोषण संबंधी सहायता प्रदान करने के लिए योजनाओं के तहत सेवाएं देने के लिए किया जा सकता है। उर्वरक सब्सिडी आदि

इसमें कहा गया है कि निजी क्षेत्र भी अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के हिस्से के रूप में इन डिजिटल वाउचर का लाभ उठा सकता है।

मोदी ने कहा कि ई-आरयूपीआई वाउचर सरकार द्वारा प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) योजना को मजबूत करने में एक प्रमुख भूमिका निभाने जा रहा है। आज देश, डिजिटल गवर्नेंस को एक नया आयाम दे रहा है। eRUPI वाउचर, देश में डिजिटल ट्रांजेक्शन को, DBT को और प्रभावी बनाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाने वाला है। इससे Targeted, Transparent और Leakage Free Delivery में सभी को बड़ी मदद मिलेगी।